Zindagi beetha di

Zindagi samajhne ke liye
humne zindagi beetha di,
Aur zindagi samajhne ke liye,
Aage dekhke chalna tha,
Par hum atheeth ko dekhthe reh gaye.
Ab jaana ki hum wahin ke wahin khade reh gaye,
Jabki saare ke saare aage nikal gaye.

ज़िन्दगी बीता दी

ज़िन्दगी समझने के लिए
हमने ज़िन्दगी बीता दी,
और ज़िन्दगी समझने के लिए
आगे देखके चलना था,
पर हम अथीथ को देखते रह गए.
अब जाना के हम वहीँ के वहीँ खड़े रह गए,
जबकि सारे जे सारे आगे निकल गए.

by-Rosy Chopra

This post has been viewed 2,356 times

वो हर लम्हा

तुमसे जुड़ी वो हर लम्हा बसते हैं मेरी यादों में
सुनहरा पल भुल न पाया जो हमने साथ गुज़ारे थे।

tumse judi o har lamha baste hai meri yaado me
sunahara pal bhul na paya jo hamne saath gujare the.
by-Vijaya Sharma

This post has been viewed 7,699 times

दिन रात जलते रहना

जिगर तक छु जाना यूँही पल पल मरना
ए चिराग़ है ईश्क का दिन रात जलते रहना।

jigar tak chu jana uhi pal pal marna
ye chiraga hai isk ka din raat jalte rahana.

by-Vijaya Sharma

This post has been viewed 7,491 times

हुस्न और भी निखर गया

सुबह कि प्यारी धुप लेकर उनका मेरे दर पे आना
हमने गंगा नहा लिया हुस्न और भी निखर गया।

subaha ki pyari dhup lekar unka mere dar pe aana
hamne ganga naha liya husna aaur v nikhar gaya
by-Vijaya Sharma

This post has been viewed 5,616 times

दिल जल जाता है

सुरज की रोशनी में तपा हुवा मरुभूमि
कैसे हो गया मेरा ईश्क पता नहीं
ए बेशुमार प्यार उस मोड़ पर ले जाती है
जहाँ पैर नहीं दिल जल जाता है।

suraj ki roshani me tapa huwa marubhumi
kaise ho gaya mera isk pata nahin
a beshumar pyar us mod par le jati hai
jahan payer nahin dil jal ja ta hai.

by -Vijaya sharma

This post has been viewed 5,563 times

महक उठी

जानी पहचानी है ए राहें
हम कितने करीब से गुज़रे थे
रास्ता अजनवी न बन सकी
ईश्क की बारिश से महक उठी।

jani pahachani hai a rahen
hum kitane karib se gujare the
rasta ajanabi na ban saki
isk ki barish se mahak uthi.
by-Vijaya Sharma

This post has been viewed 5,010 times