Chahat चाहत

चाहत हंसाती रुलाती है
वो तो जीने कि ज़रिया है
अगर चाहत न हो तो जिन्दगी नहीं
जिन्दगी न हो तो कुछ भी नहीं।

chahat hansati rulati hai
o to jine ki jariya hai
agar chahat na ho to jindagi nahin
jindagi na ho to kuch bhi nahin.
by-VijayaSharma

This post has been viewed 2,666 times

आँखें बिछा दिए थे

उसने कहा था……..
आँखों में समन्दर को छलकने न देना
तुमसे मिलने को आएँगे, वो वक्त आया नहीं
हमने तो राह में आँखें बिछा दिए थे।

usne kaha tha…..
aankho me samandar ko chalakne na dena
tumse milne ko aayenge ,o bakta aaya nahi
hamne to raaha me aankhe bicha diye the.

by-Vijaya Sharma

This post has been viewed 1,682 times