आँखें नम हो गई

उनकी खिदमत में रात गुजारे
नासमझ बनके सोते रहे
ख़ैरात मे मोहब्बत मैंने दान दे दी
फिर भी आँखें नम हो गई।
unki khidmat me raat gujare
nasamjh banke sote rahe
khairat me mohabbat maine daan de di
phir bhi aankhe nam ho gayi.
by- Vijaya Sharma

This post has been viewed 349 times

हमें मंजुर है

ईश्क किसी कि शियासत नहीं
कोई शहनशाह आके राज करे
ए तो दिल का दरबार है
कैदखाना है त तो सज़ा हमें मंजुर है।

isk kisi ki shiyashat nahin
koe shanshah aak raaj kare
ye to dil ka darbar hai
kaidkhana hai to saja hame manjur hai
by- Vijaya Sharma

This post has been viewed 333 times

Ho ke kismat se majboor

Zindagi bhar saath chalenge
Dilki yeh aarzoo thi,
Saath tho challe jaroor
Ho ke kismat se majboor,
Nadi ke do kinaare ki tarah,
Saath saath bhi lekin bahut door.

ज़िन्दगी भर साथ चलेंगे
दिलकी यह आरज़ू थी,
साथ थो चले जरूर
होके किस्मत से मजबूर,
नदी के दो किनारे की तरह,
साथ साथ भी लेकिन बहुत दूर.

By: Rosy Chopra

This post has been viewed 2,626 times

Aazma Lo Jahan आज़मा लो जहाँ

Apno se naraz ho kar jaaoge kahan?
Apna basera tum banaaoge kahan?
Jo andhere mein hai woh apne nahi hain,
yakin naa ho tho aazma lo jahan.

अपनों से नाराज़ हो कर जाओगे कहाँ?
अपना बसेरा तुम बनाओगे कहाँ?
जो अँधेरे में हैं वह अपने नहीं हैं,
यकीन ना हो थो आज़मा लो जहाँ.

–By: Rosy Chopra

This post has been viewed 2,852 times

आदत सी हो गयी है

काँटों से निभाना आदत सी हो गयी है,
यह गम सहने की अब आदत सी हो गयी है,
फूलों से डर लगता है हमें,
यादों में भटकने की अब आदत सी हो गयी है.

Kaanton se nibana aadath si ho gayi hai,
Yeh gum sehne ki ab adaath si ho gayi hai,
Phoolon se darr lagtha hai humme,
Yaadon mein bhatakne ki aadath si ho gayi hai.

by-Rosy Chopra

This post has been viewed 1,375 times

कुछ भी अल्फ़ाज़ न जाना

चाँदनी जैसी है वो आई मेरे आँगन में
उसका मुझमें समा जाना
हाले दिल बयान करुं कैसे
कुछ भी अल्फ़ाज़ न जाना।

Chandani jaisi hai o aaye mere aangan me
us ka mugha me sama Jana
haale dil bayan karun kaise
kucha bhi alfaj na jana.

by-Vijaya Sharma

This post has been viewed 5,223 times

महक उठी

जानी पहचानी है ए राहें
हम कितने करीब से गुज़रे थे
रास्ता अजनवी न बन सकी
ईश्क की बारिश से महक उठी।

jani pahachani hai a rahen
hum kitane karib se gujare the
rasta ajanabi na ban saki
isk ki barish se mahak uthi.
by-Vijaya Sharma

This post has been viewed 5,083 times

राहों को देखा न होता

क़िस्मत मे गर तुम न होते
ए जिन्दगी सँवारा न होता
तेरे घर की ओर जानेवाली
राहों को देखा न होता।

kismat me gar tum na hote
a jindagi sanvara na hota
tere ghar ki or janebali
rahon ko dekha na hota
by-Vijaya Sharma

This post has been viewed 4,682 times