Zara Si Khushi Ki Umeed ज़रा सी ख़ुशी की उम्मीद

मुक्कद्दर में क्या लिखा है,
क्या जानकर करें हम?

तुझसे दूर रहकर थो,
वैसे हे निकले है दम.

ज़रा सी ख़ुशी की उम्मीद की थी,
पर किस्मत में लिखे थे गम.

हाथों पर बन जाये खुशियों की लकीरें,
या फिर ज़िन्दगी हो जाये कम.

Muqaddar mein kya likha,
Kya jaankar karein hum?

Tujhse door rehkar tho,
Waise he nikle hai dum.

Zara se khushi ki umeed ki thi,
Par kismat mein likhe the gum.

Haathon par ban jaye khushiyon ki lakirein,
Ya phir ho jaye
zindagi kum.

By: Rosy Chopra

This post has been viewed 2,837 times

आदत सी हो गयी ह Aadath Si Ho Gayi Hai

आदत सी हो गयी है

काँटों से निभाना आदत सी हो गयी है,
यह गम सहने की अब आदत सी हो गयी है,
फूलों से डर लगता है हमें,
यादों में भटकने की अब आदत सी हो गयी है.

Kaanton se nibana aadath si ho gayi hai,
Yeh gum sehne ki ab adaath si ho gayi hai,
Phoolon se darr lagtha hai humme,
Yaadon mein bhatakne ki aadath si ho gayi hai.

by-Rosy Chopra

This post has been viewed 2,901 times

भूल न जाना

मुझे कोई एतराज़ नहीं कहीं भी तुम चले जाना
बस इतनी सी बात है वफा का वादा भुल न जाना

mughe koe atraj nahi kahi bhi tum chale jana
bas itni si baat hai bafa ka wada bhul na jana.
by -Vijaya Sharma

This post has been viewed 2,783 times

Zindagi beetha di

Zindagi samajhne ke liye
humne zindagi beetha di,
Aur zindagi samajhne ke liye,
Aage dekhke chalna tha,
Par hum atheeth ko dekhthe reh gaye.
Ab jaana ki hum wahin ke wahin khade reh gaye,
Jabki saare ke saare aage nikal gaye.

ज़िन्दगी बीता दी

ज़िन्दगी समझने के लिए
हमने ज़िन्दगी बीता दी,
और ज़िन्दगी समझने के लिए
आगे देखके चलना था,
पर हम अथीथ को देखते रह गए.
अब जाना के हम वहीँ के वहीँ खड़े रह गए,
जबकि सारे जे सारे आगे निकल गए.

by-Rosy Chopra

This post has been viewed 2,355 times

आदत सी हो गयी है

काँटों से निभाना आदत सी हो गयी है,
यह गम सहने की अब आदत सी हो गयी है,
फूलों से डर लगता है हमें,
यादों में भटकने की अब आदत सी हो गयी है.

Kaanton se nibana aadath si ho gayi hai,
Yeh gum sehne ki ab adaath si ho gayi hai,
Phoolon se darr lagtha hai humme,
Yaadon mein bhatakne ki aadath si ho gayi hai.

by-Rosy Chopra

This post has been viewed 1,225 times

एक एहसास दिल को छू गया

एक एहसास दिल को छू गया,
न जाने क्यों हमें बदल सा गया,
नज़रों का कसूर था,
या मुस्कराहट का दोष,
क्या फर्क पड़ता है?
जो होना था हो गया
हमारे दिल का चैन खो गया,
हमारे दिल का चैन खो गया.

Ek ehsaas dil ko chhu gaya,
Na jaane kyon humein badal sa gaya,
Nazaron ka kasur tha,
ya muskurahat ka dosh,
Kya farak padtha hai?
Jo hona tha ho gaya,
Humare dil ka chain kho gaya,
Humare dil ka chain kho gaya.

by- Rosy Chopra

This post has been viewed 2,938 times

सीने में नज़र चुभा दी

बग़ल में ख़ंजर तो नहीं उसकी नज़र है तीखी
कुछ बोल न पाए थे सीने में नजर चुभा दी।

bagal me khanjer to nahi uski najar hai teekhi
kuch bol na paye the seene me najar chuva dii.
by – Vijaya Sharma

This post has been viewed 4,162 times

वो हर लम्हा

तुमसे जुड़ी वो हर लम्हा बसते हैं मेरी यादों में
सुनहरा पल भुल न पाया जो हमने साथ गुज़ारे थे।

tumse judi o har lamha baste hai meri yaado me
sunahara pal bhul na paya jo hamne saath gujare the.
by-Vijaya Sharma

This post has been viewed 7,698 times

मुसाफ़िर

ईश्क मजबुरी नहीं था कोई गुनाह नहीं था
चुराने वाले को जाना वो एक मुसाफ़िर था।

isk majaburi nahi tha koyi gunaha nahi tha
churane bale ko Jana o yek musaphir tha.
by – Vijaya Sharma

This post has been viewed 6,464 times