वो थी आसमान कि चाँद

कस्तूरी थी वो महका के चली गई
उसकि खुसबु से फ़िज़ाएँ महक उठी
उस मृगनयनी को ढुढ़ु मैं दिन रात
टूटकर बिखर गया वो थी आसमान कि चाँद।

kasturi thee o mahaka ke chali gayi
uski khusbu se fijayen mahak uthi
us mrignayani ko dhunu mai din raat
tutkar bikhar gaya o thee aasman ki chaand.

by- विजया शर्मा

This post has been viewed 654 times

लम्बी जुदाई

लम्बी जुदाई और काली रातें
जी रहे थे पल पल मरके
सुरज उगा था पुरब से
देखन पाए थे हम उसे।

दर्द क्यों होता है दिल में कोई जुदा हो जाता है
प्यार करने कि जुर्म में सज़ा जैसे काटते हैं।

लम्बी होती है क्यों रातेंसमझ न पाए हम कभी
जुदाई कि गाँठ को अकेले खोलते रहे।
by- विजया शर्मा

This post has been viewed 2,759 times

तमाशा नेपाली शायरी

संगै हिडने क़सम थियो, उसले बाटो आर्कै लियो
हाँस्तै हाँस्तै उ हिड्यो म तमाशा हेरि रहें।

sangai hidne kasam thiyo,usle bato aarkai liyo
hanstai hanstai u hindyo m tamasha heri rahen.
by- Vijaya sharma

This post has been viewed 4,776 times

याद आती है

काले बादल से ढके रात के सन्नाटे में
आँखें भरी भरी हो जाती है
वो दिन………
कभी रजामन्दी हुआ करती थी
पूर्ब से आई पहली रोशनी का वो उजालाथा
by- विजया शर्मा

This post has been viewed 3,914 times