Itne zakham mile is duniya se

Zindagi Ki Thokron Ne Samhalna Sikha Diya,
Waqt Ki Haalaat Se Ladna Sikha Diya,
Mile Zindagi Me Itne Gum Ke,
Dard Se Hansna Sikha Diya…

Kabhi Kabhi dil karta h ke,
Koi ho jiske seene se lagkr khub royein,
Fir yaad ata h iss duniya me,
Dard dene wale bhot hai
Pr marham lagane wala koi nhi,
Ab to adat si ho gayi hai,
Tanhayi me rone ki,
Kyonki apno ke khatir
Muskurane ki adat si ho gyi hai…..

Itna dard bhara hai iss seene me
Ki lafzon me bayan nhi kiya ja sakta,
Ab to aisi haalat ho gyi hai ki
Is dard ke saath jiya v nhi ja sakta,
Kehte suna hai is duniya walon ko
Pehla pyar bhulaye nhi bhulaya ja sakta…

Kise sunau is darde dil ki dastaan
Aksar apna hi gair nikalta hai,
Lekin kuch apno ki khatir
Dard chupakar Hasna hi padta hai…

Itne zakham mile is duniya se ki
Ab kisi dard ka ehsaas hi nhi hota hai,
Bhale hi haste dekha hai duniya ne mujhe
Pr meri tanhayi ne mujhe rote dekha hai…

by- Sneha das adhikari

This post has been viewed 6,296 times

Hindi Shayari on Dard

हँसने कि कोशिश करते करते
रुला देती है उनके यादें
दुआं करते हैं सदा
उनको कभी रोना न आए।

तुमने नाइन्साफ़ी कि थी
मुहब्बत का मज़ाक़ बनाया
फिर भी ए मजबुरी कैसी
हमने तुमको कबुल किया।

वफा कि उम्मीद में बैठे
ईश्क हम करते रहे
न इश्क मिला न वफा मिली
ढुड़ते रहते हैं फिर भी।

उसदिन कितना रोए थे
लगा था मर जाएंगे
जिन्दगी आसान न थी
मरना भी मूमकिन न था।

बहुत दिनों के बाद हमने
सुरज पूर्व में देखा था
मन बिलकुल शान्त था
फिर भी आँसु टपक पड़े।

ढलते हुए सुरज को मैंने
देखा बड़े समन्दर में
सब कुछ था जाना पहचाना सा
पर उसका मेरा साथ न था।

शाम हुई अँधियारी छाई
मैं उन्हें पहचान न पाई
वो आए दूसरों के घर पे
हम अपने घर को सजाते रहे

बादल बरस गया गरज गरज के
छुप जाती हो बिजली बनके
तुम्हे देखने कि चाहत में
भींग गया अपने आँगन में।

This post has been viewed 10,603 times