लफ़्ज़ों मे पिरोना आया नहीं

o aayethe mere dar pe
isk ka bayan kar na sake
dil ki baat dil me raha gayee
lafjo me pirona aaya nahin
वो आए थे मेरे दर पे
ईश्क का बयां कर न सके
दिल कि बात दिल में रह गइ
लफ़्ज़ों में पिरोना आया नहीं।
by- विजया शर्मा

This post has been viewed 5,521 times

उनसे लुट जाना unse lut jana

हमें नाज है उनका इस क़दर आना
ईश्क में शामिल होने कि इजाज़त माँगना
और मेरी चाहत ईश्क को दोबारा करना
पसन्द करते हैं उनसे लुट जाना।
hame naaj hai unka es kadar aana
isk me shamil hone ki ejajat mangna
auor meri chahat isk ko dobara karna
pasand karte hai unse lut jana.
by- VijayaSharma

This post has been viewed 4,317 times

Sad Love Sayari

नफरत गलिबो से प्यार हम कर बैठे, हम उनके लिए अपना सब गवा बैठे,
प्यार की दुआ तो लगी नही अब तक, फिर भी न जाने किससे नजर लगा बैठे,
मरने की या जीने की दुआ अब क्या करें खुदा से,हम तो तेरे बिना रहना खो बैठे,
आँखों से आँसू जो झलके, हम अपने आँसू को जहर समझ बैठे,
उस हकिकत को क्या समझे जिसमे हम अपना होश गवा बैठे,
दुआ तो की थी कभी न प्यार करने की खुदा से, पर न जाने क्यूँ हम प्यार का ऐहसास कर बैठे,
मुमकिन हो सितारा टुतने की दुआ तो हमे अकेला सम्हाल लेना,
वरना अब तो हम मौत के इंतजार में गम को याद किए बैठे….

by- Shreyansh Jain SK

This post has been viewed 2,434 times

बुझने का नाम न लेती

Yaadon ko dafnane se kya hoga
aag banke sulagti rahati hai
es aag ko dafnaye kaise
jo bughne ka naam na letee.

यादों को दफ़नाने से क्या होगा
आग बनके सुलगती रहती है
इस आग को दफ़नाए कैसे
जो बुझने का नाम न लेती।
by- विजया शर्मा

This post has been viewed 1,502 times

कहीं लग न जाए

A mohini adayen aueor jadugarni ka najar
Jadu ka hunar to koe unse sikhe
nigahon ki teer se bar mat karna
shise ka dil a kahin lag na jaye.

ए मोहिनी अदाएँ और जादुगर्नी का नजर
जादू का हुनर तो कोई उनसे सिखे
निगाहों कि तीर से बार मत करना
शिसे का दिल ए कहीं लग न जाए।
by- विजया शर्मा

This post has been viewed 2,581 times

मैं उनकि राधा हूँ

parijat ke phul haba ne bikhara dee aangan me
swarg ka phul hai ae krishanji ko pasand hai
anjuli me varna chahuun kisi ko dena chahuun
haba bhi jan chuka hai mai uski radha huun.
पारिजात के फुल हबा ने बिखरा दी आँगन में
स्वर्ग का फुल है ए कृष्णजी को पसन्द है
अँजुली में भरना चाहूँ किसी को देना चाहूँ
हबा भी जान चुका है मैं उनकी राधा हूँ।
by- VijayaSharma

This post has been viewed 1,689 times