Zara Si Khushi Ki Umeed ज़रा सी ख़ुशी की उम्मीद

मुक्कद्दर में क्या लिखा है,
क्या जानकर करें हम?

तुझसे दूर रहकर थो,
वैसे हे निकले है दम.

ज़रा सी ख़ुशी की उम्मीद की थी,
पर किस्मत में लिखे थे गम.

हाथों पर बन जाये खुशियों की लकीरें,
या फिर ज़िन्दगी हो जाये कम.

Muqaddar mein kya likha,
Kya jaankar karein hum?

Tujhse door rehkar tho,
Waise he nikle hai dum.

Zara se khushi ki umeed ki thi,
Par kismat mein likhe the gum.

Haathon par ban jaye khushiyon ki lakirein,
Ya phir ho jaye
zindagi kum.

By: Rosy Chopra

300x250
Loading Facebook Comments ...

Leave a Comment