एक एहसास दिल को छू गया

एक एहसास दिल को छू गया,
न जाने क्यों हमें बदल सा गया,
नज़रों का कसूर था,
या मुस्कराहट का दोष,
क्या फर्क पड़ता है?
जो होना था हो गया
हमारे दिल का चैन खो गया,
हमारे दिल का चैन खो गया.

Ek ehsaas dil ko chhu gaya,
Na jaane kyon humein badal sa gaya,
Nazaron ka kasur tha,
ya muskurahat ka dosh,
Kya farak padtha hai?
Jo hona tha ho gaya,
Humare dil ka chain kho gaya,
Humare dil ka chain kho gaya.

by- Rosy Chopra

300x250
Loading Facebook Comments ...

Leave a Comment