मिलने को दौड़ते रहे

अधखुलि खिड़कि से हमने उनको रास्ते में देखा
शरम था पर होश न था मिलने को दौड़ते रहे।

adhakhuli khidaki se hamne unko raste me dekha
sharam tha par hosh na tha milne ko daudate rahe

translation from nepali myself
by Vijaya Sharma

300x250
Loading Facebook Comments ...

Leave a Comment