उनसे लुट जाना unse lut jana

हमें नाज है उनका इस क़दर आना
ईश्क में शामिल होने कि इजाज़त माँगना
और मेरी चाहत ईश्क को दोबारा करना
पसन्द करते हैं उनसे लुट जाना।
hame naaj hai unka es kadar aana
isk me shamil hone ki ejajat mangna
auor meri chahat isk ko dobara karna
pasand karte hai unse lut jana.
by- VijayaSharma

This post has been viewed 4,318 times

बुझने का नाम न लेती

Yaadon ko dafnane se kya hoga
aag banke sulagti rahati hai
es aag ko dafnaye kaise
jo bughne ka naam na letee.

यादों को दफ़नाने से क्या होगा
आग बनके सुलगती रहती है
इस आग को दफ़नाए कैसे
जो बुझने का नाम न लेती।
by- विजया शर्मा

This post has been viewed 1,503 times

मैं उनकि राधा हूँ

parijat ke phul haba ne bikhara dee aangan me
swarg ka phul hai ae krishanji ko pasand hai
anjuli me varna chahuun kisi ko dena chahuun
haba bhi jan chuka hai mai uski radha huun.
पारिजात के फुल हबा ने बिखरा दी आँगन में
स्वर्ग का फुल है ए कृष्णजी को पसन्द है
अँजुली में भरना चाहूँ किसी को देना चाहूँ
हबा भी जान चुका है मैं उनकी राधा हूँ।
by- VijayaSharma

This post has been viewed 1,691 times

चुनावी माहौल

ना मंदिर छोड़ा, ना मस्जिद छोड़ी ना छोड़ा इंसान,
इतना नीचे गिर गया जो कहने लगा शमशान…
गंगा-जमुनी की धरती पर ये कैसा खेल है भाई,
मजहब-फजहब के चक्कर में क्यों बाट रहे हो भाई…
हिन्दू भी परेशां मुसलमां भी परेशां क्यों नही दिखता भाई,
हाथ जोड़ कर विकास करेंगे क्यों नही कहते भाई।
ना मंदिर छोड़ा, ना मस्जिद छोड़ी ना छोड़ा इंसान…!

by- Gopi Arora

This post has been viewed 5,859 times

yaaden

#पुरानी तस्वीरों को देखकर पुरानी बातें याद आ जाती है ।।
#डूबी हुई लब्जे फिर से उभर आती है ।
#मन तो होता है फिर से भूतकाल में जाने का ।
#पर गुजरी हुई वक़्त कभी वापिस नहीं आती है ।।
(*#By अजीत*#)

This post has been viewed 5,663 times

जिन्दगी के हर काम को

जिन्दगी के हर काम को हम तुमसे पूछ के करेगे
गम तुम्हारे सारे लेलेगे और खुशी तुम्हारे नाम पर करेगे

तूमक्या जानो तूम हमारे लिए भेजे गये हो इस जहां में
दर्दो अलम खुशी वो गम सब मिलकर तुम्हारे साथ सहेगे।

This post has been viewed 6,626 times

खुद ही से नफरत

ऊस पल जब खुद ही से नफरत को प्यार में बदलने की कोशिश नाकामयाब होती नज़र आये।

ऐसे हर पल को जिंदा दफना देना ही समझदारी है।

by-ममता छाबरिया

This post has been viewed 5,028 times