Rooh ki dua!

Chalte chalte rukte Hai,
Jaise gum hua manzil ho!

Kehte kehte thamte Hai,
Jaise labzon me baat bayaan hi na ho!

Rooh se toh nikli dua,
Par koi khalish, door na hua!

Hasratien, Dil se lipti huyi,
Khawhishein, zubaan pe ghulti huyi,
Ranjishein, raahein rokti huyi,
Kare toh Kya, bas ankhein nam huyi?

Imtehaan ho chali Hai ab Sabra ki,
Safar ka kuch toh pata ho,
Jeeene ko toh hum jee lenge,
Kuch toh Kam, ye gum ho!!!

by- Ramani

This post has been viewed 2,362 times

हल चलाता खेतों में हर भूखे पेट का अरमान हूँ

हल चलाता खेतों में हर भूखे पेट का अरमान हूँ
कभी तो अपना समझो यारों इसी देश का किसान हूँ

बदल्ती हैं जब सरकारें तब बनजाता हूँ मतदाता
आता हूँ नज़र चुनावों में ,कहलाता हूँ अन्नदाता
खिलौना समझ न खेलो मुझसे में भी तो इंसान हूँ
कभी तो अपना समझो यारों इसी देश का किसान हूँ

आए होली जाए दिवाली, में खुद भूखा सोजाता हूँ
रोदेता हूँ जब अपनों को पेड़ों पे लटका पाता हूँ
सिखादो लड़ना हालातों से दुनिया से अनजान हूँ
कभी तो अपना समझो यारों इसी देश का किसान हूँ

नहीं हे कपडा बदन पे मेरे छत भी आंसू बहाती हे
सुनी पड़ी हे रससोई मेरी,बस मटकी पानी पिलाती हे
क्या होगा कल बच्चों का यही सोच के में परेशान हूँ
कभी तो अपना समझो यारों इसी देश का किसान हूँ

हल चलाता खेतों में हर भूखे पेट का अरमान हूँ
कभी तो अपना समझो यारों इसी देश का किसान हूँ
Written By-J N Mayyaat

This post has been viewed 10,169 times

साँसों का आना जाना

अपनी हर सांस को मोहताज़ बनाना तो कमज़ोरों की निशानी है।

युहि साँसों का आना जाना लगा रहना ज़िन्दा रहने की निशानी है।

अपनी साँसों पर होता अगर इक्तियार,
तो बात ही क्या थि,

मेरे वजूद को इनके इजाज़त की दरकार न होतिं।

by-ममता छाबरिया

This post has been viewed 8,645 times

Beh gyi me jazbaton me

jab has rahe the tum
uska utawlapan dekkr
wo ro rhi thi
tumhe yaad krkr
jab khoye the tum
kisi or ke khayalon me
wo apna tumhe bana rahi thi
khudke khayalon me
jhoot bolkr tum
nibhate rahe saath uska
wo bhi chlti rhi
liye tumhare hatho me hath khudka
kabhi pyar usse kiya nahi
waade bade bade kr daale
tumhari har taqlif dekkr
usne bhi Apni aankhon me aasoon bhar daale
kehte he saccha pyar krne waale
kabhi juda nahi hote
pr afsos pyar sirf uska saccha tha
tum usse jude he nahi the to juda
kese hote
hasti rhi wo tumhe apna samjhkr
tum haste rhe kisi or ki bahon ko panah smjhkr
aj jab sach samne aaya uske
to nahi sambhal paayi wo khudko
or bach gya uska sharir aatma chodkr
tanha si reti he wo ladki
jisne khamoshiya kabhi dekhi nhi
aj baithi reti he andhero me
jo andhero se hmesha darti rahi
koshish ki bhul jaane ki
pr yad hamesha use karti rahi
wo khush tha apni zindagi se
or meri zindagi yuhe guzarti rahi
reh gyi me akele in
tanha raaston me
chod diya hath usne
saare jhoote vaaston ne
bin aatma ke sharir chod gya wo
beh gyi me jazbaton me

This post has been viewed 11,879 times