हल चलाता खेतों में हर भूखे पेट का अरमान हूँ

हल चलाता खेतों में हर भूखे पेट का अरमान हूँ
कभी तो अपना समझो यारों इसी देश का किसान हूँ

बदल्ती हैं जब सरकारें तब बनजाता हूँ मतदाता
आता हूँ नज़र चुनावों में ,कहलाता हूँ अन्नदाता
खिलौना समझ न खेलो मुझसे में भी तो इंसान हूँ
कभी तो अपना समझो यारों इसी देश का किसान हूँ

आए होली जाए दिवाली, में खुद भूखा सोजाता हूँ
रोदेता हूँ जब अपनों को पेड़ों पे लटका पाता हूँ
सिखादो लड़ना हालातों से दुनिया से अनजान हूँ
कभी तो अपना समझो यारों इसी देश का किसान हूँ

नहीं हे कपडा बदन पे मेरे छत भी आंसू बहाती हे
सुनी पड़ी हे रससोई मेरी,बस मटकी पानी पिलाती हे
क्या होगा कल बच्चों का यही सोच के में परेशान हूँ
कभी तो अपना समझो यारों इसी देश का किसान हूँ

हल चलाता खेतों में हर भूखे पेट का अरमान हूँ
कभी तो अपना समझो यारों इसी देश का किसान हूँ
Written By-J N Mayyaat

This post has been viewed 1,836 times